Spread the love

शैलेन्द्र कुमार पाण्डेय।
चंपावत 5 दिसंबर 2022।
आखिर चंपावत के सिफ्टी क्षेत्र में आतंक के पर्याय बन चुके गुलदार को वन विभाग ने पकड़ने में सफलता पाई जिसके बाद ग्रामीणों व वन विभाग ने राहत की सांस ली ।

रविवार सवेरे इस गुलदार ने सड़क निर्माण कार्य में लगे हुए एक नेपाली मजदूर पर हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया था इस गुलदार की दहशत से क्षेत्र में महिलाओं ने जंगल जाना छोड़ दिया था तथा लोग अपने बच्चों को स्कूल भेजने तक में डर रहे थे गुलदार गांव के आसपास ही घूम रहा था हालांकि वन विभाग ने गुलदार को पकड़ने के लिए पिंजरा और कैमरे फिट किए हुए थे लेकिन गुलदार पिंजरे में कैद नहीं हो पाया तब जाकर वन विभाग चंपावत के द्वारा गुलदार को पकड़ने के लिए नैनीताल से एक्सपर्ट की टीम बुलाई गई ।

यह भी पढ़ें -  मुख्यमंत्री ने डीडीहाट में जनसभा कर भाजपा प्रत्याशी अजय टम्टा के समर्थन में की जनसभा।

क्षेत्र के पीएलवी गोविंद सिंह ने बताया कि गुलदार ने कल देर शाम एक गाय का शिकार कर दिया था तथा गुलदार गाय के पास ही बैठा हुआ था वन विभाग की एक्सपर्ट टीम ने देर रात 12:00 बजे के लगभग ट्रेंकुलाइजर गन से गुलदार पर निशाना साध कर बेहोश किया तब जाकर गुलदार को पिंजरे में कैद किया गया।

यह भी पढ़ें -  कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने भाजपा गोर्खा प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित गोर्खा सम्मेलन में किया प्रतिभाग।

वन विभाग की टीम गुलदार को लेकर रानी बाग को रवाना हुई तब जाकर ग्रामीणों ने राहत की सांस ली ।

मालूम हो चंपावत जिले के पहाड़ी क्षेत्रों में गुलदारो ने दहशत मचा रखी है लेकिन वन विभाग के पास पर्याप्त मात्रा में पिंजरे तक नहीं है ना ही ट्रेंकुलाइजर गन है गुलदार पकड़ने के लिए बाहर से एक्सपर्ट व गन मंगानी पड़ती है जिसमें काफी समय बीत जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page