कोटद्वार के महादेव सरस्वती शिशु विद्या मंदिर जशोधरपुर के वार्षिकोत्सव समारोह में विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूरी भूषण ने किया प्रतिभाग।

0
Spread the love

कोटद्वार 9 अप्रैल 2023।
जनपद पौड़ी के विधानसभा कोटद्वार के महादेव सरस्वती शिशु विद्या मंदिर जशोधरपुर के वार्षिकोत्सव समारोह में विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूरी भूषण ने प्रतिभाग किया।

कोटद्वार के जशोधरपुर में महादेव सरस्वती शिशु विद्या मंदिर में अपना वार्षिकोत्सव समारोह मनाया जिसमे बतौर मुख्य अतिथि विधानसभा अध्यक्ष व स्थानीय विधायक ऋतु खंडूरी भूषण ने विधिवत दीप प्रज्वलित कर समारोह का शुभारंभ किया।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड में 2009 के इतिहास की होगी पुनरावृत्ति : राजीव महर्षि।

इस दौरान समारोह में छात्र छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी। विद्यालय द्वारा उत्कृष्ट परिणाम देने वाली प्रतिभाओं को सम्मानित किया गया।

विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूरी भूषण ने कहा की हमें बच्चों पर बिना दबाव बनाए, उनका चहुंमुखी विकास करना है। बच्चे जो करना चाहते हैं उन्हें वह स्वयं करके सीखने दें। बच्चों में स्पर्धा की भावना पैदा करने से उनका बेसिक मानसिक विकास रुक जाता है।

यह भी पढ़ें -  अखिल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की सोशल मीडिया चेयरमैन और राष्ट्रीय प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने कांग्रेस के घोषणा पत्र की गिनाई खूबियां।

विधानसभा अध्यक्ष ने कहा की जीवन में गुरु का सबसे बड़ा महत्व होता है। बचपन में जो बच्चों को अच्छी शिक्षा मिलती है, वहीं बड़े होकर काम में आती है। शिक्षक व विद्यालय का व्यवहार बच्चों के भविष्य को तय करता है। बच्चे मन लगाकर पढ़े और अपने माता पिता की उम्मीदों को पूरा करे।

यह भी पढ़ें -  मुख्यमंत्री ने किया 55 करोड़ 53 लाख रूपये की लागत से निर्मित होने वाले चम्पावत साइंस सिटी का भूमि पूजन एवं शिलान्यास।विज्ञान केंद्र आदर्श चंपावत के विकास में मील का पत्थर साबित होगा : मुख्यमंत्री।

विद्यालय द्वारा विधानसभा अध्यक्ष को स्कूल को इंटर तक करने और विद्यालय में 4 कक्ष बनाने को लेकर ज्ञापन सौंपा, जिसपर विधानसभा अध्यक्ष ने विद्यालय को पूर्ण सहयोग करने का आश्वासन दिया।

समारोह में कार्यक्रम अध्यक्ष जगतराम डबराल, सम्भाग निरीक्षक पौड़ी भगवती प्रसाद चमोली, मंडी समिति अध्यक्ष सुमन कोटनाला,जिलाध्यक्ष सेवा भारती घनानंद शर्मा,प्रधानाचार्य निर्मल केमनी,प्रबंधक जितेंद्र डोबरियाल,कैलाश चंद्र नैथानी मोजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page