नैनीताल व उसके आसपास तेज गर्जना के साथ हो रही मूसलाधार बारिश कोहरे की धुंध में लकी ढकी सरोवर सरोवर नगरी।

0
Spread the love

उत्तराखंड/ नैनीताल।

नैनीताल व उसके आसपास तेज गर्जना के साथ हो रही मूसलाधार बारिश कोहरे की धुंध में ढका सरोवर नगरी।

रिपोर्टर – ललित जोशी

नैनीताल– सरोवर नगरी नैनीताल व उसके आसपास तेज गर्जना व तेज हवाओं व कोहरे के साथ मूसलाधार बारिश लगातार हो रही है। जिसके चलते जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया। कोहरे के कारण आमने सामने कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा है।


छोटे छोटे स्कूली बच्चों के साथ साथ आम जनमानस को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बारिश के चलते कई स्थानों पर नालियों के बंद हो जाने से सारा बारिश का पानी सड़कों पर बह रहा है । कई जगह पर तलया बन गया है। यहाँ बता दें विगत कई दिनों से सरोवर नगरी नैनीताल व उसके आसपास मौसम का मिजाज बिगड़ने से भारी बारिश का दौर जारी है।

यह भी पढ़ें -  सादतपुर वार्ड और श्री राम कॉलोनी मंडल के करावल नगर विधानसभा के तुकमीरपुर, चांदबाग, यमुना विहार आयोजित जनसभा को कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने किया संबोधित।


कहीं कहि ओलावृष्टि के भी समाचार मिल रहे हैं।
इधर नैनीताल में पर्यटकों की सँख्या में लगातार इजाफा होने से जहां लोगों को व नोकविहार व स्थानीय लोगों को एक उम्मीद जगी थी कि कुछ कारोबार में इजाफा होगा पर बारिश ने पानी फेर दिया।

यह भी पढ़ें -  डीएम की व्हाट्सएप आईडी हैक, श्रीलंका का निकला हैकर,हैकरो के हौसले बुलंद


पर्यटक भी चहल कदमी करते नजर नही आ रहे हैं। अपने अपने रूमों में दुबके हुए हैं। अलबत्ता मौसम का मिजाज व मूसलाधार बारिश के चलते कई लोगों के घरों में पानी घुस गया है। तथा पहाड़ो से पथर आदि गिरने का समाचार मिल रहा है। कही से कोई अप्रिय घटना का समाचार नही मिल रहा है।

यह भी पढ़ें -  भैरव सेना ने सम्मेलन कर धूमधाम से मनाया पांचवा स्थापना दिवस।


यहाँ बता दें जहां मई माह में भीषणगर्मी का दौर शुरू हो जाता था वहीं इस बार कड़ाके की ठंड हो रही है।
लोगों को गर्म कपड़ों का सहारा लेना पड़ रहा है।यहाँ बता दें मौसम का मिजाज बिगड़ने से जाड़ो के दिन याद आने लग गये हैं।

रजाई कम्बल के साथ साथ लोगों ने गर्म कपड़ों का सहारा लेना शुरू कर दिया है। बारिश व कोहरे के चलते आमने सामने कुछ भी नहीं दिखाई दे रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page