तीसरे दीक्षांत समारोह में होगी निजी संस्थानों की महत्वपूर्ण भूमिका:  प्रो0 ध्यानी।

0
Spread the love

कुलपति ने की समारोह की तैयारियों की समीक्षा, दिये जरूरी निर्देश


शैलेन्द्र कुमार पाण्डेय।8210438343,9771609900
देहरादून, 28 मई 2022।
श्रीदेव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय के तृतीय दीक्षांत समारोह की तैयारियों के मध्यनजर कुलपति प्रो0 पी0पी0 ध्यानी ने विश्वविद्यालय से सम्बद्ध निजी संस्थानों के चेयरमैंन एवं निदेशकों के साथ बैठक की।

श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय के तीसरे दीक्षांत समारोह की तैयारियों को लेकर विश्वविद्यालय कुलपति प्रो0 पी0पी0 ध्यानी ने आज उत्तराखंड तकनीकी विवि के सभागार में समीक्षा बैठक ली, जिसमे विश्वविद्यालय से सम्बद्ध विभिन्न निजी महाविद्यालयों के चेयरमैन एवं निदेशक भी मौजूद रहे।

कुलपति प्रो0 ध्यानी द्वारा बताया कि विवि से सम्बद्ध निजी संस्थान तृतीय दीक्षांत समारोह में अपने ध्वज एवं स्टैंडी (बैनर) लगायेंगे। जिसमें उनके संस्थानों के उत्कृष्ठ कार्य एवं गतिविधियां उल्लिखित होंगी। प्रो0 ध्यानी ने कहा कि सभी निजी संस्थान विश्वविद्यालय के अभिन्न अंग हैं। जिस कारण विश्वविद्यालय संचालित होता है।

यह भी पढ़ें -  मुख्यमंत्री ने डीडीहाट में जनसभा कर भाजपा प्रत्याशी अजय टम्टा के समर्थन में की जनसभा।

संस्थानों के चेयरमैंनों एवं निदेशकों द्वारा ध्वनिमत से स्वीकृति दी गई कि दीक्षांत समारोह को राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने हेतु सहयोग प्रदान करेंगे। जिस पर कुलपति द्वारा सभी का धन्यवाद दिया गया एवं सभी निजी संस्थान के सहयोग से ही विश्वविद्यालय के इस सर्वोच्च कार्यक्रम को सफल बनाया जा सकेगा। कुलपति प्रो0 ध्यानी ने संतोष व्यक्त करते हुये कहा कि दीक्षांत समारोह के सफल आयोजन के लिये गठित विभिन्न समितियों को आवंटित कार्य तय समय सीमा के भीतर पूरे किये जाने हेतु समितियां कटिबद्ध है।

यह भी पढ़ें -  मुख्यमंत्री ने किया 55 करोड़ 53 लाख रूपये की लागत से निर्मित होने वाले चम्पावत साइंस सिटी का भूमि पूजन एवं शिलान्यास।विज्ञान केंद्र आदर्श चंपावत के विकास में मील का पत्थर साबित होगा : मुख्यमंत्री।

इस मौके पर कुलसचिव खेमराज भट्ट द्वारा निजी संस्थानों को अवगत कराया गया कि कार्यक्रम में संस्थानों के चेयरमैन एवं निदेशकों को आमंत्रण हेतु निमंत्रण दिया जायेगा। जिस पर संबंधित की स्वीकृति के उपरांत ही सम्बंधित को पृथक से स्थान एवं अन्य व्यवस्थाएं की जायेंगी। इसके अतिरिक्ति कोई संस्थान अपने किसी चिर-परिचित के नाम से स्वर्ण पदक (टॉपर छात्र/छात्राओं को दिये जाने हेतु) विश्वविद्यालय को देना चाहता है तो इस संबंध में विश्वविद्यालय से नियमानुसार अनुमति लेनी होगी। जिसके उपरांत ही वितरण के संबंद्ध में निर्णय लिया जायेगा। इसके अतिरिक्त निजी संस्थानों द्वारा अपनी समस्याओं को कुलपति के सम्मुख प्रमुखता से उठाया गया। इस संबंध में कुलपति द्वारा अवगत कराया गया कि दीक्षांत समारोह सम्पन्न होने के उपरांत पृथक से इन समस्याओं यथा सम्बद्धता, परीक्षा इत्यादि के संबंद्ध में निजी संस्थानों के चेयरमैंनों एवं विश्वविद्यालय प्रशासन के मध्य निर्णयात्मक बैठक आयोजित की जायेंगी। अंत कुलसचिव द्वारा सभी का धन्यवाद अदा किया गया।

यह भी पढ़ें -  डेकोरा एक्सपो में उत्पादों की व्यापक श्रृंखला लुभा रही लोगों को।

बैठक में विश्वविद्यालय के कुलसचिव खेमराज भट्ट, सहायक कुलसचिव देवेंद्र रावत, प्रभारी प्रशासन सुनील नौटियाल सहित विश्वविद्यालय से सम्बद्ध विभिन्न निजी संस्थानों के चेयरमैन प्रो0 पी0डी0 जुयाल (पूर्व कुलपति), राम कुमार शर्मा, ललित जोशी, अजय जसोला, निशांत थपलियाल, पी0के0 जैन, अजय सिंह, नितिन तोमर, जितेन्द्र यादव, सौरभ शर्मा, संदीप चौधरी, एच0एल0 उपाध्याय, बालकृष्ण नौटियाल, प्रशांत जोशी, वीर विक्रम सिंह, डॉ0 राजेश तिवारी, अजय सिंह, पुष्कर नगन्याल, गोपाल अग्रवाल, संजय गर्ग एवं संस्थानों के प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page