ई-पास की अनिवार्यता से तीर्थ पुरोहित एवं व्यापारियों में आक्रोश, दो अक्टूबर से अनिश्चितकालीन करेंगे धरना प्रदर्शन

0
Spread the love

ई-पास की अनिवार्यता से तीर्थ पुरोहित एवं व्यापारियों में आक्रोश  


केदारघाटी के व्यापारी दो अक्टूबर से अनिश्चितकालीन धरना करेंगे शुरू


ई-पास की व्यवस्था खत्म करने को लेकर बाजार रहेंगे बंद
व्यापारियों के आंदोलन को कांग्रेस देगी समर्थन l


उत्तराखंड / रुद्रप्रयाग:- चारधाम यात्रा में ई-पास की अनिवार्यता से जहां एक ओर श्रद्धालु खासे परेशान हैं, वहीं तीर्थ पुरोहित समाज के साथ ही व्यापारियांे और मजदूरों में आक्रोश बना हुआ है। ऐसे में चारधाम यात्रा पर दर्शनों के लिए सीमित ई पास व्यवस्था को समाप्त करने को लेकर केदारघाटी के व्यापारियों ने दो अक्टूबर से अनिश्चितकालीन धरना शुरू करने व बाजार बंद रखने का निर्णय लिया है।

उन्होंने सरकार से इस व्यवस्था में सुधार लाने की मांग की है। वहीं कांग्रेस ने भी व्यापारियों के आंदोलन का समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि दो साल से कोरोना महामारी के कारण व्यापारियों का व्यवसाय चैपट हो गया है और अब ई-पास की अनिवार्यता के कारण श्रद्धालु खासे परेशान हैं, जिस कारण स्थानीय लोगों को भी रोजगार नहीं मिल पा रहा है।

यह भी पढ़ें -  टिहरी लोक सभा क्षेत्र के लिए बनाए गए महाराणा स्पोर्ट्स स्टेडियम स्थित मतगणना स्थल का निरीक्षण करने पहुंचे कांग्रेस नेता।


बता दें कि चारधाम यात्रा शुरू होने के बाद से देश के विभिन्न कोनों से हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं। जिन यात्रियों के ई-पास बन चुके हैं, उन्हें तो सरलता से बाबा केदार के दर्शन हो रही हैं, लेकिन जिनके पास ई-पास नहीं हैं वे केदारघाटी पहुंचकर परेशान हो रहे हैं। उन्हें यह लग रहा है कि यहां पहुंचकर स्थानीय प्रशासन उनकी मदद करेगा, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। वे यहां आकर परेशान हो रहे हैं और सड़कों पर हल्ला मचा रहे हैं। ऐसे में श्रद्धालुओं की परेशानियों को देखकर केदारघाटी के व्यापारियों, तीर्थ पुरोहितों एवं मजदूरों में आक्रोश बना हुआ है। अब तक बिना ई-पास के केदारघाटी पहुंचे हजारों तीर्थ यात्रियों को वापस लौटा दिया गया है।

केदारसभा के अध्यक्ष विनोद शुक्ला, किशन बगवाड़ी ने कहा कि प्रदेश सरकार ने गत 18 सितम्बर से चारधाम यात्रा का संचालन शुरू तो किया, लेकिन सीमित ई-पास की व्यवस्था का खामियाजा केदारघाटी के व्यवसायियों को उठाना पड़ रहा है। ई-पास न होने से भक्तों को बिना दर्शन किए हुए आधे रास्ते से लौटना पड़ रहा है, जिसका असर यात्रा से जुडे व्यवसायियों के साथ ही तीर्थाटन प पर्यटन पर भी पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें -  राजीव महर्षि ने कांग्रेस प्रत्याशियों के पक्ष में की मार्मिक अपील।

यात्री दूर दराज प्रदेशों से यात्रा पर आ रहे है, मगर उन्हें बिना दर्शनों के वापस लौटना पड़ रहा है। यह भविष्य में यात्रा के लिए बुरा संदेश भी है। चारधाम यात्रा पर आ रहे श्रद्धालुओं के लिए ई-पास की व्यवस्था को खत्म कर देना चाहिए, जिससे श्रद्धालु आसानी से बाबा केदार के दर्शन कर सकें। कहा कि देवस्थानम् बोर्ड के गठन से परेशानियां झेलनी पड़ रही हैं। यह बोर्ड व्यापारियों के हित में नहीं है। ई-पास के कारण सीमित संख्या में ही केदारनाथ धाम में यात्री पहुंच रहे हैं। चारधाम दर्शनों के लिए ई-पास की प्रक्रिया समाप्त कर अंतिम पड़ावों में विगत वर्षों की भांति पंजीकरण की व्यवस्था किए जाने की मांग की। कहा कि ई-पास की अनिवार्यवता के विरोध में पूरी केदारघाटी एकजुट हो चुकी है। ऐसे में 2 अक्टूबर से अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन के साथ ही बाजार बंद करने के लिए व्यवसायी मजबूर हैं।

यह भी पढ़ें -  अखिल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की सोशल मीडिया चेयरमैन और राष्ट्रीय प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने कांग्रेस के घोषणा पत्र की गिनाई खूबियां।

ई-पास के विरोध में केदारघाटी के व्यापारी, मजदूर एवं तीर्थ पुरोहितों के समर्थन में कांग्रेस भी आगे आ गई है। कांग्रेस की प्रदेश महामंत्री लक्ष्मी राणा ने कहा कि चारधाम यात्रा में श्रद्धालुआंें को आसानी से जाने की अनुमति मिलनी चाहिए थी, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। दो साल से कोरोना महामारी के कारण लोग परेशान हैं और अब ई-पास की अनिवार्यता से लोगों को रोजगार से वंचित रहना पड़ रहा है। कहा कि रुद्रप्रयाग के विधायक भी सरकार के खिलाफ आवाज नहीं उठा रहे हैं। क्षेत्र में काम नहीं हो रहे हैं, जिस कारण जनता परेशान हैं। कहा कि व्यापारियों, तीर्थ पुरोहित एवं मजदूरों के समर्थन में कांग्रेस खड़ी रहेगी और जब तक ई-पास की अनिवार्यता को खत्म नहीं किया जाता, सरकार के खिलाफ आंदोलन जारी रहेगा।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page