सिडबी और जन उद्यमिता के लिए वैश्विक गठबंधन (जी. ए. एम. ई) छोटे एनबीएफसी के लिए पहला समूह लॉन्च । 

0
Spread the love

देहरादून 17 अक्टूबर, 2023। सिडबी और ग्लोबल एलायंस फॉर मास एंटरप्रेन्योरशिप (गेम) ने एनबीएफसी ग्रोथ एक्सेलेरेटर प्रोग्राम (एनजीएपी) के लिए पहले समूह को शामिल किया है। यह कार्यक्रम क्यूरेटेड हस्तक्षेपों के माध्यम से छोटे एनबीएफसी के क्षमता निर्माण में सहायता करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिससे उन्हें समग्र मूल्यांकन मापदंडों के आधार पर संस्थागत वित्त पोषण के लिए आवेदन करने में सक्षम बनाया जा सके।  

पांच महीने के गहन कार्यक्रम में छोटे/कम रेटिंग वाले एनबीएफसी के जोखिम, संचालन, शासन और प्रौद्योगिकी पहलुओं पर डोमेन विशेषज्ञों से हैंडहोल्डिंग और मेंटरशिप शामिल है। यह इन-पर्सन, वर्चुअल और व्यक्तिगत सत्रों के मिश्रण के माध्यम से सहकर्मी सीखने, समीक्षा ओं और नेटवर्किंग को प्रोत्साहित करने और सुविधाजनक बनाने के लिए संरचित है।

एनजीएपी (www.ngapindia.com) सिडबी और गेम द्वारा छोटी/कम रेटिंग वाली एनबीएफसी के क्षमता निर्माण को संबोधित करने के लिए एक पहल है जो उन्हें प्रतिस्पर्धी ब्याज दरों पर संस्थागत ऋण प्राप्त करने में सक्षम बनाएगी। जबकि ऐसी एनबीएफसी दूरदराज के भौगोलिक क्षेत्रों में नए ऋण और सूक्ष्म उद्यमों को निधि देने के लिए सबसे उपयुक्त हैं, उन्हें एमएसएमई क्षेत्र के सतत विकास के लिए उचित लागत पर पर्याप्त धन की आवश्यकता है।  

यह भी पढ़ें -  सादतपुर वार्ड और श्री राम कॉलोनी मंडल के करावल नगर विधानसभा के तुकमीरपुर, चांदबाग, यमुना विहार आयोजित जनसभा को कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने किया संबोधित।

इस पहल के बारे में बोलते हुए, सिडबी के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, श्री शिवसुब्रमण्यम रमन ने कहा, “एनबीएफसी पिरामिड व्यवसायों के निचले हिस्से तक पहुंचने की उनकी इच्छा और क्षमता के कारण देश के आर्थिक विकास का समर्थन करने में एक महत्वपूर्ण साधन हैं, विशेष रूप से क्रेडिट की कमी वाले भौगोलिक क्षेत्रों में, अभिनव और फुर्तीले क्रेडिट डिलीवरी मॉडल को अपनाने और स्थानीय पारिस्थितिकी तंत्र की समझ। सिडबी ने पिछले कुछ वर्षों में अपनी कई अभिनव योजनाओं के माध्यम से एनबीएफसी की अधिक विविध श्रेणी तक पहुंचकर एनबीएफसी क्षेत्र के साथ अपनी भागीदारी को बढ़ाया है। बैंक ने अतीत में एमएफआई क्षेत्र के लिए संस्थागत निर्माण में एक प्रमुख भूमिका निभाई है और अब सक्रिय रूप से छोटे/कम रेटिंग वाले एनबीएफसी खिलाड़ियों के क्षमता निर्माण में संलग्न होने की कोशिश कर रहा है ताकि उन्हें बड़ी भूमिका निभाने के लिए मजबूत संस्थाओं में बदल दिया जा सके। एनजीएपी इस दिशा में की गई पहलों में से एक है। उन् होंने विश् वास व् यक् त किया कि बड़ी संख् या में प्रतिभागी इस कार्यक्रम से लाभान्वित होंगे और अपने परिचालन मानकों तथा संस् थागत वित् त पोषण तक पहुंच में सुधार कर सकेंगे, जिससे एमएसएमई क्षेत्र में ऋण का प्रवाह बढ़ेगा।  

यह भी पढ़ें -  कांग्रेसजनों ने राजीव गांधी को अर्पित किए श्रद्धा सुमन।राजीव भवन में प्रतिमा पर किए गए पुष्प अर्पित।

एनजीएपी के डिजाइन के बारे में बताते हुए, ग्लोबल एलायंस फॉर मास एंटरप्रेन्योरशिप के संस्थापक श्री रवि वेंकटेशन ने कहा, “हमारा उद्देश्य एमएसएमई-केंद्रित एनबीएफसी को औपचारिक वित्त पोषण और भविष्य के लिए तैयार होने के लिए योग्य बनाने के लिए एक प्रतिकृति मॉडल तैयार करना था। एनजीएपी भाग लेने वाली एनबीएफसी को कार्यक्रम के बाद अपने मापदंडों में सुधार करने और वित्त पोषण के लिए आवेदन करने के लिए बेहतर स्थिति में होने में मदद करता है। हमें उम्मीद है कि कार्यक्रम के बाद कोहोर्ट के 80% को धन प्राप्त होगा। अगले एक साल में, हमारे पास उधार देने योग्य एनबीएफसी का एक बड़ा पूल होगा जो बड़ी संख्या में एमएसएमई की सेवा कर सकते हैं। इसका उद्देश्य 3 वर्षों में 100+ एनबीएफसी की क्षमता ओं का निर्माण करना है, जिससे एमएसएमई को ऋण का प्रवाह बढ़ सके।

यह भी पढ़ें -  टिहरी लोक सभा क्षेत्र के लिए बनाए गए महाराणा स्पोर्ट्स स्टेडियम स्थित मतगणना स्थल का निरीक्षण करने पहुंचे कांग्रेस नेता।

श्री उमेश रेवणकर, अध्यक्ष, एफआईडीसी और कार्यकारी उपाध्यक्ष- श्रीराम फाइनेंस लिमिटेड ने इस अनूठे कार्यक्रम की संकल्पना में सिडबी और गेम की पहल की सराहना की, जो बड़ी संख्या में एमएसएमई केंद्रित एनबीएफसी को अपनी आंतरिक जोखिम प्रबंधन प्रणालियों को बढ़ाने, कॉर्पोरेट प्रशासन में सुधार करने और व्यवसाय के लिए उपयुक्त तकनीक अपनाने में मदद कर सकता है। उन्होंने महसूस किया कि इससे सूक्ष्म उद्यमों को ऋण के प्रवाह को बढ़ाने के लिए उन्हें अधिक भरोसेमंद बनाया जा सकता है।  

इस घोषणा के अवसर पर गणमान्य व्यक्ति, फिडीसी के पूर्व अध्यक्ष रमन अग्रवाल, बैंक और एनबीएफसी के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page